मेवाड़ का इतिहास – History Of Mewar

मेवाड़ का इतिहास – History Of Mewar :- Part 1

मेवाड़ का इतिहास - History Of Mewar
मेवाड़ का इतिहास – History Of Mewar

महाराणा सांगा ( संग्रामसिंह ) का इतिहास

राणा विक्रमादित्य 1531-1536 ई.

  • – इनकी मां रानी कर्मावती इनकी सरंक्षिका थी। 
  • – इनके समय 1533 ई. में गुजरात के राजा बहादुरशाह ने आक्रमण किया। फिर संधि में रणथम्भौर का किला मेवाड़ वालों ने बहादुरशाह को दे दिया। 
  • – 1534 ई. में फिर बहादुरशाह ने चित्तौड़ पर आक्रमण किया इसके बाद रानी कर्मावती ने हुमायुं के पास राखी भेजकर सहायता को गुहार की। 
  • – इस समय मेवाड़ का दूसरा साका हुआ। 
  • – देवलिया के ‘बाघसिंह’ के नेतृत्व में केसरिया किया गया। रानी कर्मावती ने जौहर किया। 
  • – ‘उड़ना राजकुमार पृथ्वीराज’ के दासी पुत्र बनवीर को मेवाड़ का शासन भार दिया गया 
  • – बनवीर ने विक्रमादित्य की हत्या कर दी। 
  • – बनवीर उदयसिंह को मारने के लिए गया पर पन्ना धाय ने अपने बेटे चन्दन की बलि देकर उदयसिंह को बचा लिया। 

उदयसिंह 1537-1572 ई.

  • – पन्नाधाय उदयसिंह को लेकर कुम्भलगढ़ जाती हैं। कुम्भलगढ़ का किलेदार आशा देवपुरा इन्हें शरण देता हैं। 
  • – अखेराज सौन्दरा ने अपनी बेटी जयवंता बाई की शादी उदयसिंह के साथ की। – जोधपुर के राजा मालदेव के समर्थन से बनवीर को हराकर 1540 ई. में मावली के युद्ध में बनवीर को हराकर उदयसिंह महाराणा बनता हैं।
  • – 1559 ई. में उदयसिंह ‘उदयपुर’ की स्थापना करता हैं। इसी समय उदयसागर झील का निर्माण करता हैं। 
  • – 1567-68 ई. में अकबर का चित्तौड़ पर आक्रमण। 
  • – उदयसिंह चित्तौड़ के किले की चाबी ‘जयमल’ (मेड़ता का राजा) को सौंपकर स्वंय ‘गिरवा की पहाड़ियों’ में चला गया।
  • – जयमल एवं फता के नेतृत्व में साका किया गया। 
  • – जयमल जख्मी होने के कारण ‘कल्ला राठौड़’ के कंधे पर बैठकर लड़े थे। 
  • – इसलिए कल्ला राठौड़ को चार हाथों के लोक देवता के रूप में पूजा जाता हैं।
  • – अकबर इन दोनों की वीरता से प्रभावित होकर इन दोनों की गजारूढ़ मूर्तियां आगरा के किले पर लगवाता हैं। बीकानेर में जूनागढ किले के बाहर भी इनकी मूर्तियां लगी हुई हैं। 
  • – यह चित्तौड़ का तीसरा साका था। 
  • – इस युद्ध के बाद उदयसिंह अपनी राजधानी गोगुन्दा बनाता हैं। 
  • – गोगुन्दा में ही उदयसिंह की छतरी बनी हुयी हैं।

महाराणा प्रताप 1572-1597 ई. :- Read More

अमरसिंह 1597-1620 ई.

  • – 5 फरवरी 1615 ई. – मुगल+मेवाड़ संधि (जहागीर के काल में) 
  • – हरिदास झाला व शुभकरण दोनों मेवाड़ की तरफ से संधि का प्रस्ताव लेकर गए। 
  • – शर्तेः- मुगल दरबार में युवराज कर्णसिंह जायेगा। 
  • – कर्णसिंह को पांच हजार का मनसबदार बनाया गया। 
  • – चित्तौड़ के किले की मरम्मत नहीं की जायेगी। 
  • – मेवाड़ से वैवाहिक सम्बन्ध नहीं बनाया जायेगा। 
  • – महाराणा अमरसिंह ने इस बात से दु:खी होकर शासन प्रबन्ध कर्णसिंह को सौंप दिया। वह स्वयं ‘नौ चौकी’ नामक राजस्थान पर जाकर रहने लगा।

कर्णसिंह 1620-1628 ई.

  • – उदयपुर में जगमंदिर महलों का निर्माण शुरू करवाया। 
  • – शाहजहां विद्रोह के दौरान जगमंदिर में शरण लेता हैं। 
  • – उदयपुर में महल बनाए:- दिलखुश महल व कर्ण विलास महल

जगतसिंह प्रथम 1628-1652 ई.

  • – जगमंदिर महलों का निर्माण पूरा करवाया। 
  • – उदयपुर में जगदीश (जगन्नाथ मंदिर) का निर्माण करवाया। इसे सपने से बना मंदिर कहते हैं। 
  • – इस मंदिर पर जगन्नाथ राय प्रशस्ति (कृष्ण भट्ट ने) लिखी हुयी हैं। 
  • – 1631 ई. में शाहजंहा ने सुजानसिंह को मेवाड़ से अलग शाहपुरा (भीलवाड़ा) रियासत दे दी। 
  • – जगदीश मंदिर के पास वाला धाय का मंदिर महाराणा की धाय नौजूबाई द्वारा बनवाया गया।

राजसिंह 1652-1680 ई.

  • – उत्तराधिकार संघर्ष में औरंगजेब का समर्थन किया। 
  • – जोधपुर के महाराजा अजीतसिंह को औरंगजेब के खिलाफ समर्थन देता हैं। इसे राठौड़ – सिसोदिया गठबन्धन कहते है 
  • – औरंगजेब के जजिया कर का विरोध किया था 
  • – रूपनगढ़ (किशनगढ़) की राजकुमारी चारूमती से महाराणा राजसिंह ने औरंगजेब की इच्छा के विरूद्ध विवाह किया। 
  • – इस विवाह से पूर्व हुए युद्ध में सलूम्बर का रावत रतनसिंह चूण्डावत अपनी पत्नी हाड़ी रानी सहलकंवर से निशानी मांगता हैं। 
  • – हाडी रानी सहलकंवर निशानी के तौर पर अपना सिर काट कर देती हैं।

“चूंडावत मांगी सेनाणी, सिर काट दे दियो क्षत्राणी”

राजसिंह के निर्माण कार्य

  • 1. श्रीनाथ मंदिर- सिहाड़ (नाथद्वारा) 
  • 2. द्वारिकाधीश मंदिर- कांकरोली 
  • 3. अम्बामाता मंदिर- उदयपुर 
  • 4. राजसंमद
  • झील- 1662 से 1676 के दौरान अकाल राहत कार्यों में निर्माण किया गया। 

राजसिंह के दरबारी विद्वान

  • -न 1. रणछोड़ भट्ट तैलंग- (1) राजप्रशस्ति- राजसमंद झील के पास पच्चीस पत्थरों पर लिखी गई। भारत का सबसे ___ बड़ा संस्कृत शिलालेख। (2) अमर काव्य वंशावली। 
  • – 2. किशोरदास- राजप्रकाश। 
  • – 3. सदाशिव भट्ट- राज रत्नाकर। 

राजसिंह की उपाधियाँ

  • विजयकटकातु
  • हाइड्रोलिक रूलर

अमरसिंह द्वितीय 1698-1710 ई.

  • 1708 ई. में देबारी समझौता। 
  • मेवाड राणा अमरसिंह द्वितीय + आमेर के राजा सवाई जयसिंह + मारवाड़ राजा अजीतसिंह। मुगल बादशाह बहादुरशाह प्रथम के खिलाफ। 
  • अमरसिंह की बेटी चन्द्रकवर की शादी सवाई जयसिंह के साथ इस शर्त पर की गयी कि चन्द्रकवर का बेटा ही आमेर (जयपुर) का अगला राजा बनेगा। 

संग्रामसिंह द्वितीय – 1710-1734 ई.

  • इसने उदयपुर में सहेलियों की बाड़ी का निर्माण करवाया। । 
  • हुरड़ा सम्मेलन की रूपरेखा तैयार की। 
  • सीसरमा गांव में वैद्यनाथ का विशाल मंदिर बनवाया एवं वैद्यनाथ मंदिर की प्रशस्ति लिखवाई गई। रूप भट्ट ने लिखी।

जगतसिंह द्वितीय 1734-51 ई.

  • जगत विलास महल (पिछोला झील में) 
  • 17 जुलाई 1734 ई में हुरड़ा सम्मेलन बुलाया गया। 
  • उद्देश्य – मराठों के खिलाफ सभी राजपूत रियासतों को एक करना। 
  • वर्षा ऋतु समाप्त होते ही ‘रामपुरा’ में मराठों के खिलाफ युद्ध किया जाएगा। 
  • जयपुर – सवाई जयसिंह 
  • जोधपुर – अभयसिंह 
  • कोटा – दुर्जनसाल 
  • बीकानेर – जोरावरसिंह 
  • करौली – गोपालसिंह 
  • किशनगढ़ – राजसिंह
  • बूंदी –  दलेलसिंह 
  • नागौर – बख्तसिंह 
  • अध्यक्षता – जगतसिंह द्वितीय ने की। 
  • सवाई जयसिंह को अध्यक्ष नहीं बनाया गया इसी वजह से उनके नाराज होने पर हुरड़ा सम्मेलन असफल रहा।
  • दरबारी नेकराम ‘जगतविलास’ नामक पुस्तक लिखी।

भीमसिंह 1778-1828 ई.

  • कृष्णा कुमारी विवादः- मेवाड़ महाराणा भीमसिंह की पुत्री कृष्णाकुमारी की सगाई मारवाड़ के राजा भीमसिंह के साथ हुई। 
  • संयोगवश शादी से पहले ही मारवाड़ राजा भीमसिंह की मृत्यु हो गयी। 
  • अतः कृष्णा कुमारी की सगाई जयपुर नरेश जगतसिंह के साथ कर दी गयी। 
  • मारवाड़ महाराजा मानसिंह ने इस बात पर आपत्ति जताई। 
  • 1807ई. गिंगोली का युद्ध नागौर में परबतसर के पास। जयपुर V/s जोधपुर
  • इस विवाद को समाप्त करने के लिए अजीतसिंह चूण्डावत व अमीर खां पिंडारी (टोंक) के कहने पर कृष्णा कुमारी को जहर देकर मार दिया गया। 
  • 1818 ई. में भीमसिंह ने अंग्रेजों के साथ सहायक संधि कर ली।