गुप्त वंश – Gupta Dynasty ( चन्द्रगुप्त, समुद्रगुप्त )

गुप्त वंश

गुप्त वंश – Gupta Dynasty का प्रथम महत्वपूर्ण शासक चन्द्रगुप्त प्रथम था, लेकिन इसके पहले श्रीगुप्त (240-285 ई.) तथा घटोत्कच (280-320 ई.) का शासक के रूप में उल्लेख मिलता है। चन्द्रगुप्त प्रथम (319-350 ई.) ने 320 ई. में गुप्त सम्वत् की शुरूआत की। उसने महाराजाधिराज की उपाधि धारण की थी।

मौर्य साम्राज्य – Maurya Empire ( चन्द्रगुप्त, बिन्दुसार, अशोक )

मौर्य साम्राज्य

मौर्य साम्राज्य – चन्द्रगुप्त मौर्य (322 ई. पू.- 298 ई. पू.) ने चाणक्य सहायता से नन्द वंश के शासक धननन्द को अपदस्थ व Maurya Empire – मौर्य साम्राज्य की स्थापना की।

सिकन्दर का भारत अभियान – Alexander’s India Campaign

सिकन्दर - Alexander

सिकन्दर – Sikandar मेसीडोनिया (मकदूनिया) के क्षत्रप फिलिप का पुत्र था।अपने विश्व विजय की योजना के अन्तर्गत सिकन्दर ने भारत पर आक्रमण किया। झेलम तथा चिनाव के मध्यवर्ती प्रदेश के शासक पोरस (पुरु) ने सिकन्दर का प्रतिरोध किया।

मगध साम्राज्य – Magadha Empire

मगध साम्राज्य

ईसा पूर्व के सोलह महाजनपदों में मगध सर्वाधिक शक्तिशाली महाजनपद था। प्राचीन भारत में साम्राज्यवाद की शुरूआत या विकास का श्रेय मगध को दिया जाता है।

सोलह महाजनपद – Sixteen Mahajanapadas

सोलह महाजनपद

सोलह महाजनपद – छठी शताब्दी ई. पू. में पूर्वी उत्तर प्रदेश और पश्चिमी बिहार लोहे के व्यापक स्तर पर प्रयोग होने से बड़े-बड़े प्रादेशिक एवं जनपद राज्यों के निर्माण की परिस्थितियाँ बन गईं।

बौद्ध धर्म – Buddhism ( गौतम बुद्ध )

बौद्ध धर्म

गौतम बुद्ध ने अपना पहला उपदेश सारनाथ (ऋषिपतनम) में दिया। बुद्ध ने सांसारिक दुःखों के बारे में चार आर्य सतय बताये हैं। ये हैं- दुःख, दुःख समुदय, दुःख निरोध तथा दुःख निरोध गामिनी प्रतिपदा। बौद्ध धर्म अनीश्वरवादी तथा अनात्मवादी है।

जैन धर्म – Jainism

जैन धर्म

जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर ऋषभदेव थे। इन्हें इस धर्म का संस्थापक भी माना जाता है। जैन धर्म में कुल 24 तीर्थंकर हुए। महावीर स्वामी जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर थे। इन्हें धर्म का वास्तविक संस्थापक माना जाता है। जैन धर्म में कर्मफल से छुटकारा पाने के लिए त्रिरत्न का पालन आवश्यक माना गया है। ये त्रिरत्न हैं- सम्यक् दर्शन, सम्यक् ज्ञान एवं सम्यक् आचरण।

वैदिक साहित्य – वेद, आरण्यक, उपनिषद, पुराण, रामायण, महाभारत

वैदिक साहित्य – ऋग्वेद,यजुर्वेद,सामवेद,अथर्ववेद ऋग्वेद वेद का अर्थ ज्ञान से है। इनसे आर्यों के आगमन व बसने का …

Read more

वैदिक काल – Vedic period ( ऋग्वैदिक, उत्तर वैदिक काल )

वैदिक काल - Vedic Period

ऋग्वैदिक काल Rigvedic Period- इसे 1500 ई. पू.- 1000 ई. पू. माना गया है। उत्तर वैदिक काल Post vedic period- इसे 1000 ई. पू.- 600 ई. पू. माना गया है। मैक्स मूलर ने आर्यों का मूल निवास स्थान मध्य एशिया को माना है।