राजस्थानी चित्रकला की विशेषताएं

राजस्थान की चित्रकला

राजस्थानी चित्रकला की विशेषताएं – विषय वस्तु की विविधता, वर्ण विविधता, प्रकृति परिवेश, देश काल के अनुरूप होना राजस्थान चित्रकला की प्रमुख्पा विशेषताएं हैं। 

राजस्थान की प्रमुख दरगाह, मस्जिद एवं मकबरे

राजस्थान की प्रमुख दरगाह, मस्जिद एवं मकबरे

राजस्थान की प्रमुख दरगाह, मस्जिद एवं मकबरे – जामा मस्जिद, ईदगाह मस्जिद, मलिकशाह की दरगाह, मस्तान बाबा की दरगाह, गुलाब खां का मकबरा, इकमीनार, गमता गाजी मीनार, भूरे खां की मजार, बीबी जरीना का मकबरा

राजस्थान के प्रमुख मंदिर – Temple of Rajasthan

राजस्थान के प्रमुख मंदिर - Temple Of Rajasthan

राजस्थान के मंदिर – किराडू के मंदिर, अधुना के मंदिर, कपुर के जैन मंदिर, रणकपुर के जैन मंदिर, सिरोही विमलसहि मंदिर, पुष्कर के मंदिर, एकलिंगनाथ जी के मंदिर, रावण मंदिर, स्वर्ण मंदिर

राजस्थान के लोक नाट्य – Loknatya Of Rajasthan

राजस्थान के लोक नाट्य

राजस्थान के लोक नाट्य – ख्याल, नौटंकी, रम्मत, स्वांग, गवरी, तमाशा, भवाई, फड़, रासलीला, रामलीला – तुलसीदास जी द्वारा, सनकादिक लीला

राजस्थान की छतरियां – Rajasthan ki Chhatriyan

राजस्थान की प्रमुख छतरियां - Rajasthan Ki Chhatriyan

राजस्थान की प्रमुख छतरियां – गैटोर की छतरियाँ, आहड़ छतरियां, पंचकुण्ड छतरियां ( मंडौर ), देवीकुंड सागर छतरियां( बीकानेर ), शेखावाटी छतरियां, जोधपुर छतरियां, अलवर छतरियां, डूंगरपुर छतरियां

राजस्थान के दुर्ग ( Rajasthan Ke Durg ) – Forts of Rajasthan

राजस्थान के दुर्ग ( Rajasthan Ke Durg )

राजस्थान के दुर्ग – गागरोन का किला, चित्तौड़गढ़ का किला, कुम्भलगढ़ का किला, रणथम्भौर का किला, मेहरानगढ, जैसलमेर दुर्ग, भटनेर का किला, आमेर का किला व् अन्य

राजस्थान की चित्रकला

राजस्थान की चित्रकला

ब्राउन महोदय ने राजस्थान की चित्रकला को ‘राजपुत कला’ कहा। मेवाड़ को राजस्थान की चित्रकला की जन्मभूमि कहा जाता हैं। राजस्थान के सबसे प्राचीन चित्र जैसलमेर के जिनभद्र सूरी भंडार में संग्रहीत हैं।